Sunday, 14 July 2019

Rajasthan ke Lok Nritya Part 6 | राजस्थान के लोक नृत्य

नट जाति के नृत्य

Rajasthan ke Lok Nritya Part 6 | राजस्थान के लोक नृत्य
Rajasthan ke Lok Nritya Part 6 | राजस्थान के लोक नृत्य

कठपुतली नृत्य 

  • यह नृत्य नट जाति के लोग करते है ।
  • कठपुतली नचाने वाला नट अपने हाथ में डोरियों का गुच्छा थाम कर नृत्य संचालन करता है ।

'मोर/शारीरिक नृत्य

  • यह नृत्य नट जाति के द्वारा किया जाता है । 
  • इस नृत्य में नट अपनी शारीरिक कौशल का प्रदर्शन करते है ।

मेवों के नृत्य 

रणबाजा नृत्य  

  • मेव जाति में प्रचलित एक विशेष नृत्य है । 
  • रणबाजा नृत्य में स्त्री-पुरुष दोनों भाग लेते है । 

रतबई नृत्य 

  • यह अलवर क्षेत्र की मेव महिलाओं द्वारा किया जाने वाला नृत्य है 
  • इस नृत्य में महिलाएँ सिर पर इंडोणी व सिरकी (खारी)रखकर नृत्य करती है ।
  • रतबई नृत्य में पुरुष (अलागोजा दमामी (टामक) वाद्य यंत्र बजाते है तथा स्त्रियाँ हरी चूडियों को खनखनाती है ।

कामड जाति के नृत्य 

तेरहताली नृत्य


  • तेरहताली नृत्य बाबा रामदेव के भोपे (कामड़ जाति के) जो बाबा की अराधना में रात को लीलाएँ,ब्यावले तथा यशोगाथाएं गाते है । तेरहताली नृत्य में कामड़ स्त्री नौ मंजीरे अपने दाएँ पाँव पर, दो मंजीरे दोनों हाथ की (एक-एक) कोहनी पर बाँधती है । दो मंजीरे दोनों हाथों में एक-एक रखती हैं इस प्रकार तेरहमंजीरों के साथ इस नृत्य को किया जाता है ।
  • इस नृत्य में पुरुष (मंजीरा तानपुरा व चौतारा) बजाते है । तेरहताली नृत्य के प्रमुख कलाकार माँगी बाई, मोहनी, नारायणी, लक्ष्मणदास कापड आदि है ।
  • तेरहताली नृत्य पोकरण, डीडवाना, डूंगरपुर आदि स्थानों पर किया जाता है
  • इन्होनें 1954 ईं. मे जवाहरलाल नेहरू के समक्ष गाडिया लौहार सम्मेलन में तेरहताली नृत्य प्रस्तुत किया ।

हरीजन जाति के नृत्य

बोहरा बोहरी नृत्य 

  • यह नृत्य होली के अवसर पर हरिजन जाति में किया जाता है ।  
  • इस नृत्य में दो पात्र बोहरा (बोरा) एवं बोहरी (बोरी) होते है । 

घुमन्तु जाति के नृत्य 

बालदिया नृत्य


  • बालदिया एक घुमन्तु जाति है जो गेरू को खोदकर बेचने का व्यापार करती है
  • यह नृत्य गेरू को खोदकर बेचने के व्यापार को चित्रित करती है ।

माली समाज का नृत्य 

चरवा नृत्य 

  • माली समाज की स्त्रियों के द्वारा किसी स्त्री  के संतान होने पर कांसे के घडे में दीपक रखकर उसे सिर पर धारण कर चरवा नृत्य किया जाता है ।
  • सामान्यत  काँसे के घडे चरवा के कारण ही इसका यह नाम पडा 

मछली नृत्य 

  • बणजारा जाति के लोगों द्वारा किया जाने वाला नृत्य ।
  • मछली नृत्य पूर्णिमा की चांदनी रात को बनजारों के खेमों में किया जाने वाला नृत्य नाटक है ।

कुम्हार जाति के नृत्य 

चाक नृत्य


  • चाक नृत्य विवाह के समय कुम्हार के घर चाक (घडे) लेने जाते समय महिलाएं करती है ।

भांड जाति के नृत्य 

नकल नृत्य 

  • भांड जाति के लोग नकल नृत्य करते है । 

गोगा नृत्य


  • गोगा नृत्य गोगा नवमीं (भाद्रकृष्ण नवमी) पर किया जाता है ।
  • इस नृत्य में चमार लोग जो गोगा जी के भक्त होते हैं वे एक जुलूस निकालकर उसमें नृत्य करते है । इसके नृत्य बडे उत्तेजक होते है ।
  • गोगा नृत्य में गोगा भक्त अपनी पीठपर सांकल से मारते है । सिर पर भी उसे चक्कर खाते हुए मारते है इस नृत्य में इनकी मीठ जख्मी हो जाती है ।
  • गोगा नृत्य मे ढोल-डैरू नामक वाद्य यंत्र का प्रयोग किया जाता है

भोपों के नृत्य  

  • राजस्थान में गोगाजी पाबूजी, देवी जी हड़भूजी भैरू जी आदि के भोपे-भोपिन इनकी फड के सामने इनकी गाथा का वर्णन करते हुए नृत्य करते है । 

वीर तेजा नृत्य


  • वीर तेजा नृत्य तेजा जी की अराधना में कच्छी घोडी पर सवार होकर तलवार से युद्ध कौशल प्रदर्शन करते हुए गले में सर्प डालकर-छतरी व भाला हाथ में लेकर तेजा जी की कथा के साथ पुरुषों द्वारा किया जाने वाला नृत्य है ।
  • तेजाजी के नृत्य के अंत में तेजा भगत नाग को अपनी जीभ पर कटवाते है ।
  • तेजाजी के नृत्य में अलगोजा-ढोलक-मंजीरा नामक वाद्य यंत्रों का प्रयोग किया जाता है

साँसियों के नृत्य 

  • इनके नृत्य अटपटे तथा कामुकतापूर्ण होते है । लेकिन इनका अंग संचालन उत्तम होता है ये नृत्य उल्लास एवं मनोरंजन की दृष्टि से उत्तम होते हैं ।

मीणों के नृत्य

  • मीणा जाति के नृत्यों में वाद्य यंत्र बडे आकार का नगाडा होता है । मीणा जाति के प्रमुख नृत्य रसिया लागुरिया नृत्य है ।

गाडिया लुहारों का नृत्य


  • इनके नृत्यों में सामूहिक संरचना न होकर गीत के साथ स्वच्छंद रूप से नृत्य किया जाता है ।
Latest
Next Post

post written by:

0 comments:

Popular Posts