Sunday, 17 February 2019

आमेर की शिला माता | Amer Shila Devi History in Hindi

शिलादेवी जयपुर के कछवाहा राजवंश की कुलदेवी है । आमेर राज्य के शासक मानसिंह प्रथम ने बंगाल विजय के पश्चात इस देवी की प्रतिमा को प्रतिस्थापित किया ।

आमेर की शिला माता

Amer Shila Devi History in Hindi
Amer Shila Devi History in Hindi

  • शिलादेवी के मंदिर में जल व मदिरा के रूप में भक्तों को चरणामृत दिया जाता है ।
  • शिलादेवी की प्रतिमा अष्टभुजी है । भगवती महिषासुर मर्दिनी की मूर्ति के ऊपरी हिस्से पर पंचदेवों की प्रतिमाएं उत्कीर्ण है । शिलादेवी का प्रमुख स्थान आमेर (जयपुर) में है ।
  • इस देवी का मंदिर सफेद संगमरमर से निर्मित है जो स्थापत्य कला की उत्कृष्ट कृति है ।
  • मानसिंह द्वितीय ने शिलादेवी के मंदिर में चाँदी के किवाड़ भेंट किये । शिला देवी के बाई और अष्ट धातु की हिंगलाज माता की मूर्ति प्रतिष्ठित है ।
  • शिला के रूप में मिलने कारण शिला देवी के रूप में प्रसिद्ध है।
  • यह मूर्ति चमत्कारी मानी जाती है। 
  • यह मूर्ति कछवाहा राजाओं से पूर्व आमेर में शासन कर रहे मीणा राजाओं द्वारा बलूचिस्तान से लाई गयी थी ।
  • आमेर शिला माता के गुजियां व नारियल का प्रसाद चढ़ाया जाता है।
  • यहां वर्ष में दो बार चैत्र और आश्विन के नवरात्र में मेला लगता है।
  • यहां भैरव जी का भी मन्दिर है। माता के दर्शन के बाद भैरव मन्दिर में दर्शन करना जरूरी माना जाता है। 
  • शिला देवी मंदिर, हिंदूओं की देवी काली को समर्पित है
  • राजा मान सिंह काली माता के भक्‍त थे।
  • किंवदंतियों के अनुसार मंदिर में 1972 तक पशु बलि दी जाती थी, लेकिन जैन धर्मावलंबियों के विरोध के चलते यह बंद कर दी गई।
  • इस मंदिर में शिला देवी की मूर्ति के बारे में कई तरह की कथाएं प्रचलित हैं।
अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करना

Read also 

  1. लोक देवता तेजाजी का इतिहास | Lok Devta Tejaji Maharaj
  2. राजस्थान के लोक देवता गोगाजी | Goga Medi Rajasthan
  3. राजस्थान के लोक देवता 
  4. करणी माता देशनोक- Karni Mata History in Hindi
  5. कैला देवी का इतिहास - Kela Devi Rajasthan
  6. लोक देवी जीणमाता 
Previous Post
Next Post

post written by:

2 comments: