Monday, 4 February 2019

लोक देवता पाबूजी महाराज | Lok Devta Pabu ji Maharaj

यह Rpsc Rajasthan GK (Raj GK ) याद करने का सबसे आसान तरीका है इस पोस्ट से आप लोक देवता पाबूजी महाराज Lok Devta Pabu ji Maharaj , पाबूजी की फड़, pabuji maharaj mandir, pabuji maharaj history को Step by Step आसानी से पढ़कर याद कर सकते हैं
पाबूजी का जन्म 1239 ईं में फलौदी तहसील (जोधपुर) के कोलू गाँव में हुआ । पाबूजी राठौड राजवंश से सम्बन्धित थे ।पाबूजी का पूजा स्थल कोलू गाँव फलौदी (जोधपुर) में है । पाबूजी का प्रतीक चिन्ह भाला लिए अश्वारोही है ।
लोक देवता पाबूजी महाराज | Lok Devta Pabu ji Maharaj
लोक देवता पाबूजी महाराज | Lok Devta Pabu ji Maharaj

लोक देवता पाबूजी महाराज का इतिहास

  • पाबूजी के पिता का नाम धांधलजी माता का नाम कमलादे था ।
  • ये राठौडों के मूल पुरुष राव सीहा के वंशज थे ।
  • पाबूजी को लक्ष्मण का अवतार माना जाता है ।
  • मनौती पूर्ण होने पर भोपा व भोपियों द्वारा पाबूजी की फड गाई जाती है ।
  • पाबूजी ऊँटों के देवता के रूप में पूजे जाते है ।
  • ऊँट के बीमार होने पर पाबूजी की भक्ति की जाती है ।
  • पाबूजी के पवाड़े विशेष रूप से प्रचलित है ।
  • इन पवाडों में इनका प्रमुख वाद्ययंत्र माठ होता है ।
  • पाबूजी का विवाह अमरकोट के राजा सूरजमल सोढा की पुत्री सुप्यारदे/फूलमदे से हो रहा था कि ये फेरों के बीच से ही उठकर (साढे तीन फेरे)अपने बहनोई जीन्दराव खींची से देवल चारणी ( जिसकी कैसर कालमी घोडी ये मांगकर लाये थे ) की गायें छुडाने चले गये और देचूं गाँव (जोधपुर) में वीर गति को प्राप्त हुए ।
  • ऊँटों की पालक रांईका (रेबारी) जाति इन्हें अपना आराध्य देव मानती है ।
  • पाबूजी थोरी एवं आयड़ जाति में लोकप्रिय है और मेहर जाति के मुसलमान इन्हें पीर मानकर पूजा करते है ।
  • पुरानी मान्यता के अनुसार मारवाड़ में सर्वप्रथम ऊँट लाने का श्रेय पाबूजी को मिला था ।
  • 'पाबूजी की फड़' नायक जाति के भोपो द्वारा 'रावणहत्या' वाद्य के साथ बांची जाती है ।
  • पाबूजी की फड़ चाँदी की फड है ।
  • पाबूजी की अराधना में थाली लोकनृत्य किया जाता है ।
  • 'चांदा-डेमा, हरमल एवं सलजी सौलंकी पाबूजी के रक्षक सहयोगी के रूप में माने जाते है ।
  • आशिया मोडजी द्वारा लिखित ' पाबू प्रकाश ' पाबूजी के जीवन पर एक महत्वपूर्ण रचना है ।
  • इनकी घोडी का नाम केसर कालमी था ।


पाबूजी के बारे में अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • इन से सम्बन्धित गीत ' पाबूजी के पवाड़े' माठ वाद्य के साथ नायक एवं रेबारी जाति के द्वारा गाये जाते है ।
  • पाबूजी केसर कालमी घोडी एवं बाईं और झुकी पाग के लिए प्रसिद्ध है ।
  • पाबूजी का बोध चिन्ह भाला लिये अश्वारोही है ।
  • इनका कोलूमण्ड में प्रमुख मंदिर जहाँ प्रतिवर्ष चैत्र अमावस्या को मेला भरता है ।
  • मुस्लिम सुल्तान दूदा सूमरा को पाबूजी ने युद्ध में परास्त किया , क्योंकि यह एक हिन्दू द्रोही व हिन्दुओं पर अत्याचार करने वाली प्रवृति का शासक था ।
  • पाबूजी अल्प आयु में ही छुआछूत का विरोध करते थे ।
  • पाबूजी को ' प्लेग रक्षक/हाड-फाड वाले देवता/गायों के मुक्तिदाता' के रूप में भी पूजा जाता है ।
  • विवाह के साढे तीन फेरे लेने के बाद ही गायों को बचाने पहुँचे ।
  • बहनोई जायल (नागौर के शासक) जींदराव खींची से युद्ध लड़ते हुए 1276 ईं. में देंचूँ गांव (जोधपुर) में 24 वर्ष की आयु में वीरगति को प्राप्त हुए ।
  • इसीलिए पाबूजी के अनुयायी आज भी विवाह के अवसर पर साढ़े तीन फैरे ही लेते है ।
अगर आपको हमारी पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों को जरूर शेयर करना

Read also 

लोक देवता तेजाजी का इतिहास
राजस्थान के लोक देवता गोगाजी
राजस्थान के लोक देवता बाबा रामदेव
Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments:

Popular Posts