Bharat ke Pramukh Darre - भारत के प्रमुख दर्रे

Bharat Ke Pramukh Darre - इस पोस्ट में हम भारत के प्रमुख दर्रे notes, in map, pdf, trick, के बारे में जानकारी प्राप्त करे गे 

भारत के प्रमुख दर्रे टॉपिक आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे- RPSC, Bank, SSC, Railway, RRB, UPSC आदि में सहायक होगा।

आप इस पोस्ट से  Bharat Ke Pramukh Darre in Hindi का PDF भी डाउनलोड कर सकते है।

'भारत में पाये जाने वाले दर्रों को दो भागों में बाँटा जा सकता है

Bharat ke Pramukh Darre
Bharat ke Pramukh Darre


हिमालय के पर्वतीय राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेश में पाये जाने वाले दर्रे -


  1. केंद्र शासित प्रदेश - जम्मू कश्मीर
  2. राज्य - हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर।

प्रायद्वीप भारत के राज्यों में पाये जाने वाले दर्रे


राज्य - महाराष्ट्र, केरल।

इन दर्रों का महत्व व्यापार, परिवहन, युद्ध तथा अन्य उद्देश्यों के लिए है। 

Bharat ke Pramukh Darre - भारत के प्रमुख दर्रे

भारत में अधिक मात्रा में दर्रे पाये जाते हैं दर्रे का मतलब होता है दो पहाड़ों के बीच की जगह, जो नीचे की ओर दब गई हो, ये संरचना ज्यादातर पहाड़ों से नदी बहने की वजह से बनती है।

लेकिन इसके कुछ ओर भी कारण है जैसे - भूकम्प, ज्वालामुखी, जमीन का खिसकना उल्का गिरना इत्यादि।

'दर्रा' किसे कहते हैं?

पहाड़ों के बीच की जगह को दर्रा कहा जाता है। या कहें कि पर्वतों एवं पहाड़ों के मध्य पाए जाने वाले आने जाने   के प्राकृतिक मार्गों को दर्रा कहा जाता है। ये वे प्राकृतिक मार्ग हैं जिनसे होकर पहाड़ों को पार किया जाता है।

मुख्यतः भारत के 7 राज्यों और 1 केंद्र शासित प्रदेश में स्थित दर्रों का विवरण निम्नवत है

कराकोरम दर्रा

यह दर्रा जम्मू-कश्मीर राज्य के लद्दाख क्षेत्र में काराकोरम श्रेणियों के मध्य स्थित है। यह 5,654 मीटर ऊंचा है। यहां से चीन को एक सड़क भी बनाई गई है। प्राचीन काल में इस दरें से यारकंद भी जाते थे। इस दर्रे से होकर यार कन्द तथा तारिम बेसिन को मार्ग जाता है।

जोजिला दर्रा

जम्मू-कश्मीर राज्य की जास्कर श्रेणी में यह दर्रा है। इसकी ऊंचाई 3,529 मीटर है, श्रीनगर से लेह जाने का मार्ग इसी दर्रे से गुजरता है। जोजिला दर्रे का निर्माण सिन्धु नदी द्वारा हुआ है। यह कश्मीर घाटी को लेह से जोड़ता है। इस दर्रे से श्रीनगर से लेह को मार्ग(राष्ट्रीय राजमार्ग - 1D) गुजरता है।

पीर पंजाल दर्रा : 

यह जम्मू-कश्मीर राज्य के दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। यह पीरपंजाल के मध्य 3,494 मीटर ऊंचा दर्रा है। इस दर्रे से कुल गांव से कोठी जाने का मार्ग गुजरता है।

बनिहाल दर्रा : 

यह जम्मू-कश्मीर राज्य के दक्षिण-पश्चिम में पीर-पंजाल श्रेणियों में स्थित है। इसकी ऊंचाई 2,832 मीटर है। जम्मू से श्रीनगर का मार्ग इसी दरें से गुजरता है। बनिहाल दर्रा हिमालय का एक प्रमुख दर्रा हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग 1अ एनएच1ए इस दर्रे से होकर निकलता है। यही दर्रा कश्मीर घाटी को जवाहर सुरंग के माध्यम से जम्मू के रास्ते शेष भारत से जोड़ता है।

बनिहाल पीर पंजाल पर्वतश्रेणी का एक दर्रा है, जो जम्मू कश्मीर राज्य में स्थित है। समुद्र तल से 2832 मीटर (9291 फीट) की ऊँचाई पर पीर पंजाल श्रेणी में स्थित यह दर्रा जम्मू को श्रीनगर से जोड़ता है। कश्मीरी भाषा में 'बनिहाल' का अर्थ है- 'हिमावात'। यह दर्रा डोडा ज़िले में 2,832 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। बनिहाल के मैदानों से कश्मीर घाटी तक पहुँचने का प्रमुख मार्ग है। सड़क परिवहन की व्यवस्था करने के उद्देश्य से यहाँ 'जवाहर सुरंग' बनायी गई थी, जिसका उद्घाटन 1956 ई. में किया गया था, जिसके कारण अब इस दर्रे का बहुत उपयोग नहीं रह गया।

शिपकी ला दर्रा : 

यह दर्रा हिमाचल प्रदेश के जास्कर श्रेणी में स्थित है। इस दर्रे से होकर शिमला से तिब्बत जाने का मार्ग है। इसकी समुन्द्र तल से ऊंचाई 4300 मी. है।  यहां भारत की व्यापार पोस्ट(भारत की तिब्बत के साथ व्यापार पोस्ट नाथूला, सिक्किम एवं लिपुलेख, उत्तराखण्ड में भी) स्थित है। यहां से भारतीय राष्ट्रीय मार्ग-5 गुजरता है

रोहतांग दर्रा : 

हिमाचल प्रदेश में पीर पंजाल श्रेणियों में  दर्रा स्थित है। इसकी ऊंचाई 4,631 मीटर है।  हिमाचल प्रदेश की पीर-पंजाल श्रेणियों में स्थित है। " केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के योगदान को देखते हुए रोहतांग दर्रा सुरंग का नाम अटल बिहारी वाजपेयी सुरंग करने का निर्णय लिया है। "

बड़ालाचा दर्रा : 

यह हिमाचल प्रदेश में जास्कर श्रेणियों के मध्य स्थित है। इसकी ऊंचाई 4,512 मीटर है। मंडी से लेह जाने के मार्ग में इसी दर से गुजरना पड़ता है।

लिपुलेख दर्रा 

यह दर्रा उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जनपद में 5334 मी. की ऊंचाई पर स्थित है। यह उत्तराखण्ड एवं तिब्बत की सीमा पर स्थित है। यहां भारत-तिब्बत की व्यापार पोस्ट स्थित है। यह भारत-चीन एवं नेपाल की सीमा पर अवस्थित है तथा भारत एवं नेपाल के बीच में इसके नियंत्रण को लेकर विवाद भी है परन्तु वर्तमान में इस पर भारत का नियंत्रण है। यहां से कैलाश-मानसरोवर जाने का रास्ता गुजरता है।

माना दर्रा : 

यह उत्तरांचल के कुमायूं श्रेणियों में स्थित है। इस दर्रे  से होकर भारतीय तीर्थयात्री मानसरोवर झील और कैलाश घाटी के दर्शन हेतु जाते हैं। यह दर्रा उत्तराखंड के अंतिम गाँव माना में स्थित है। इसकी ऊंचाई 5545 मी. है। यह उत्तराखंड के माना को तिब्बत से जोड़ता है। यह दर्रा उत्तराखण्ड की हिमालय की जास्कर श्रेणी में स्थित है। यह भारत एवं चीन की सीमा पर स्थित है।

नीति दर्रा : 

यह दर्रा भी उत्तरांचल के कुमायूं प्रदेश में स्थित है। यह 5,389 मीटर ऊंचा है। यहां से भी मानसरोवर झील और कैलाश घाटी जाने का मार्ग खुलता है।

नाथू ला दर्रा : 

यह सिक्किम राज्य में डोगेक्या श्रेणी में नाथू ला दर्रा | स्थित है। यह भारत-चीन युद्ध में अपने सामरिक महत्व के कारण अधिक चर्चित रहा था। यहां से दार्जिलिंग और चुंबी घाटी होकर तिब्बत जाने का मार्ग है।

जौलेम-ला दर्रा : 

यह दर्रा भी सिक्किम राज्य में है। भूटान जाने वाला मार्ग इसी दरें से गुजरता है। यहां से भी दार्जिलिंग और चुंबी घाटी होकर तिब्बत जाने का मार्ग है।

बोम्डि ला दर्रा : 

यह अरुणाचल प्रदेश के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित है। बोम्डि ला से तवांग होकर तिब्बत जाने का मार्ग है। 

नोट: ध्यातव्य है कि दरें को तिब्बती भाषा में 'ला' कहते हैं। नियमानुसार इसे शिपकी दर्रा अथवा शिपकी ला कहना चाहिए, परंतु प्रचलन में शिपकी ला दर्रा ही कहते हैं

यांग्याप दर्रा : 

अरुणाचल प्रदेश के उत्तर-पूर्व में स्थित है। इसके पास से ही ब्रह्मपुत्र नदी भारत (अरुणाचल प्रदेश) में प्रवेश करती है। यहां से चीन के लिए मार्ग भी खुलता है। 14. दिफू दर्रा : अरुणाचल प्रदेश के पूर्व में म्यांमार सीमा पर यह दर्रा स्थित है। 

पांग साड दर्रा : 

यह अरुणाचल प्रदेश के दक्षिण पूर्ण में म्यांमार सीमा पर स्थित है। डिब्रूगढ़ से म्यांमार जाने का मार्ग इसी दर्रा से. गुजरता से है। 

देब्सा दर्रा देब्सा 

दर्रा हिमाचल प्रदेश के कुल्लू और स्पीति ज़िलों के मध्य महान् हिमालय में स्थित है। यह दर्रा समुद्र तल से 5360 मीटर (17,590 फीट) की ऊँचाई पर स्थित है। देब्सा दर्रा कुल्लू और स्पीति को जोड़ने वाले पिन-परवती दर्रे की तुलना में एक आसान और कम दूरी का विकल्प है। सुंदर स्पीति घाटी हिमालय के पहाड़ों में हिमाचल प्रदेश के उत्तर-पूर्वी भाग में तिब्बत और भारत के बीच एक रेगिस्तानी पहाड़ भूमि है। यह दर्रा कुल्लू में पार्वती नदी की घाटी से होकर गुजरता है।

तुजु दर्रा : 

यह मणिपुर राज्य के दक्षिण-पूर्व में स्थित है। इंफाल तामु और म्यांमार जाने के लिए इसी दर्रे से रास्ता जाता है। 

बाल घाट : 

यह महाराष्ट्र राज्य में पश्चिमी घाट की श्रेणियों में स्थित प्रमुख दर्रा है। इसकी ऊंचाई 583 मीटर है । यहां से होकर दिल्ली -मुंबई के प्रमुख सड़क व रेलमार्ग गुजरते हैं। 

भोरघाट : 

यह दर्रा भी महाराष्ट्र राज्य के पश्चिमी घाट श्रेणियों में स्थित है। पुणे-बेलगाम रेलमार्ग और सड़क मार्ग इसी दरें से गुजरता है। 

पालघाट : 

यह केरल राज्य के मध्य-पूर्व में नीलगिरि की पहाड़ियों में स्थित है। इसकी ऊंचाई 305 मीटर है। कालीकट-त्रिचोर से कोयंबटूर-इंडोर के रेल व सड़क मार्ग इसी दरें से गुजरते हैं।

मंगशा धुरा 

मंगशा धुरा दर्रा उत्तराखण्ड राज्य के पूर्व में स्थित सीमान्त नगर पिथौरागढ़ में स्थित है। यह दर्रा समुद्र तल से लगभग 5674 मीटर (18615 फीट) की ऊँचाई पर स्थित है। पिथौरागढ़ स्थित यह दर्रा उत्तराखंड को तिब्बत से जोड़ता है। मानसरोवर की यात्रा के लिए यात्रियों को इस दर्रे से भी गुजरना पड़ता है। यहाँ पर्यटकों एवं तीर्थ यात्रियों के लिए भूस्खलन एक बड़ी समस्या है।

भारत के प्रमुख दर्रे और राज्य



नाम

राज्य

ऊँचाई (फीट )

 विभाजक/संयोजक

असीरगढ़

मध्य प्रदेश



बनिहाल

जम्मू एवं कश्मीर

9,291

जम्मू एवं कश्मीर

बारा ला चाला

हिमाचल प्रदेश

16,400

यह मंडी और लेह को आपस में जोड़ता है|

बोमडिला

अरुणाचल प्रदेश



चांग ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

17,585

लेह और चांगथांग

चंसल

हिमाचल प्रदेश

14,830


देहरा कम्पास

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)



देब्सा

हिमाचल प्रदेश

17,520


डिफू

अरुणाचल प्रदेश

4,587


डोंगखाला

सिक्किम

12,000


धूमधर कंडी

उत्तराखंड



फोटू ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

13,451


गोएचा ला

सिक्किम

16,207


हल्दी घाटी

राजस्थान



इंद्रहार

हिमाचल प्रदेश

14,473


जेलेप ला

सिक्किम

14,300

सिक्किम और भूटान के बीच के मार्ग उपलब्ध कराता है और इसका निर्माण तीस्ता नदी द्वारा किया गया है|

खारडुंग ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

17,582

लेह और नूब्रा

कोंग्का

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

16,965

लद्दाख और अक्साईचिन

लानक ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

17,933

लद्दाख और तिब्बत

कुंजुम

हिमाचल प्रदेश (लाहौल-स्पीति)

14,931

लाहौल और स्पीति

काराकोरम

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)


लद्दाख और सिंजियांग

लिपुलेख

उत्तराखंड

17,500


लुंगालाचा ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

16,600


लम्खागा

हिमाचल प्रदेश

17,336


मार्सिमिक ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

18,314


मयाली

उत्तराखंड

16,371


माना ला

उत्तराखंड

18,399

कैलाश और मानसरोवर को जाने वाला मार्ग इसी से होकर गुजरता है

नामिक ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

12,139


नाथू ला

सिक्किम

14,140

यह दार्जिलिंग व चुंबी घाटी (सिक्किम) और तिब्बत के बीच मार्ग उपलब्ध कराता है

पलक्कड गैप

केरल

750

केरल और तमिलनाडु

थामारासेरी

केरल (वायनाड)

1,700

मालाबार और मैसूर

शेनकोट्टा

केरल (कोल्लम)

690


पेंसी ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)



रेजांग ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)



रोहतांग

हिमाचल प्रदेश

13,051

मनाली और लेह को आपस में जोड़ता है और पीर पंजाल पहाड़ियों में स्थित है|

सासेर ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

17,753

नूब्रा और सियाचिन हिमनद

सेला

अरुणाचल प्रदेश

14,000


शिपकी ला

हिमाचल प्रदेश


शिमला से तिब्बत को को जाने वाला मार्ग यहीं से गुजरता है और सतलज नदी इसी दर्रे से होकर भारत में प्रवेश करती है|

सिया ला

जम्मू एवं कश्मीर (सियाचिन हिमनद)

18,337


शिंगों ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)



स्पंगुर गैप

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)



ग्योंग ला

जम्मू एवं कश्मीर (सियाचिन हिमनद)

18,655


बिलाफ़ोंड ला

जम्मू एवं कश्मीर (सियाचिन हिमनद)

17,881


सिन ला

उत्तराखंड



तंगलांग ला

जम्मू एवं कश्मीर (लद्दाख)

17,583


ट्रैल्स

उत्तराखंड

17,100


ज़ोजिला

जम्मू एवं कश्मीर

12,400

कश्मीर और लद्दाख

नीति

उत्तराखंड


कैलाश और मानसरोवर को जाने वाला मार्ग इसी से होकर गुजरता है|



GK Shortcut Tricks – बुका पीर जो बनी जमूरे , शिरोब हिमाचल , उत्तरी मालिनी , सी जैन , अरुणा यदि बो

जम्मू – कश्मीर के प्रमुख दर्रे GK Shortcut Tricks in Hindi

बुका पीर जो बनी जमूरे

बु – बुर्जिल दर्रा 
का – काराकोरम दर्रा 
पीर – पीरपंजाल दर्रा 
जो – जोजिला दर्रा ( श्रीनगर से लेह जाने का मार्ग गुजरता है ! )
बनी – बनिहाल दर्रा (बनिहाल दर्रे से जम्मू से श्रीनगर जाने का मार्ग गुजरता है , जवाहर सुरंग इसी में स्थित है ! )
जमूरे – जम्मू – कश्मीर में स्थित 

हिमाचल प्रदेश  के प्रमुख दर्रे GK Tricks

शिरोब हिमाचल

शि – शिपकी ला दर्रा ( शिमला को तिब्बत से जोडता है ! ) 
रो – रोहतांग दर्रा
ब – बडालाचा दर्रा

उत्तराखंड  के प्रमुख दर्रे GK Shortcut Tricks 


उत्तरी मालिनी

उत्तरी – उत्तराखंड में स्थित
मा – माना दर्रा ( माना दर्रे से होकर तीर्थयात्री मानसरोवर झील के दर्शन हेतु जाते हैं ! )
लि – लिपुलेख दर्रा 
नी – नीति दर्रा

सिक्किम  के प्रमुख दर्रे GK  Tricks


सी जैन 

सी – सिक्किम  में स्थित
जै – जैलेप ला दर्रा 
न – नाथू ला दर्रा

अरुणाचल प्रदेश  के प्रमुख दर्रे GK  Tricks


अरुणा यदिबो


अरुणा -अरुणाचल प्रदेश में स्थित
य – यांग्दाप दर्रा ( ब्रम्हपुत्र नदी इसी दर्रे से होकर भारत में प्रवेश करती है , यहां से चीन जाने के लिये मार्ग है ! )
दि – दिफ़ू दर्रा ( यह भारत को म्यांमार से जोडता है )
बो – बोमडिला दर्रा  ( यह दर्रा अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत की राजधानी ल्हासा से जोड़ता है )

Note –

तुजु दर्रा – मणिपुर में स्थित है ! 
गोरानघाट दर्रा राज्स्थान की अरावली पर्वत श्रेणी में स्थित है ! 
खैबर दर्रा पाकिस्तान व अफगानिस्तान के बीच स्थित है !
आर्य खैबर दर्रे से होकर भारत में आए थे !

 दक्षिण भारत के प्रमुख दर्रे Passes of South India 

दक्षिण भारत में बस 3 ही दर्रे महत्वपूर्ण हैं जोकि आपको याद रखने हैं ! इसकी ट्रिक हम आपको नीचे दे रहे हैं जो कि क्रमश: ऊपर से नीचे हैं !


थाली में भोजन परोस 


थाली – थालघाट ( महाराष्ट्र ) मुंबई से नासिक को जोडता है ! ( Trick -मुन्ना ( मुंबई से नासिक ) खाये थाली ( थालघाट ) में ) यह पश्चिमी घाट में स्थित है ! NH – 3 इसी से होकर गुजरता है ! 

भोजन – भोरघाट ( महाराष्ट्र ) मुंबई से पुणे को जोडता है ! ( Trick – मुंबई से पूना जाने में भोर ( सुबह ) हो गई ) यह पश्चिमी घाट में स्थित है ! NH – 9 इसी से होकर गुजरता है !

परोस – पालघाट ( केरल ) कोयंबटूर से कोचीन को जोडता है  ( Trick – कोकोपाल ) नीलगिरि की पहाडी में स्थित है !

Bharat Ke Pramukh Darre in Hindi PDF

Name of The Book : *Bharat Ke Pramukh Darre in Hindi PDF*
Document Format: PDF
Total Pages: 9
PDF Quality: Normal
PDF Size: 2 MB
Book Credit: S. R. Khand

Bharat Ke Pramukh Darre PDF Download in Hindi

Bharat ke Pramukh Darre  FAQ


आर्यों ने भारत में किस दर्रे से होकर प्रवेश किया था ? 
ans - खैबर
जवाहर सुरंग' नाम किस प्राकृतिक पर्वतीय दर्रे को दिया गया है ?
ans - बनिहाल दर्रा
पीपली घाट दर्रा किस पर्वतीय भाग में स्थित है ?
ans - अरावली
जोजिला दर्रा जोड़ता है -
ans - श्रीनगर और लेह को
पाल घाट दर्रा निम्नलिखित में से किन दो राज्यों को जोड़ता है ?
ans - केरल - तमिलनाडु

Post a comment

0 Comments

close