Saturday, 9 February 2019

अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया Budget 2019 India

  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है
  •  केंद्र सरकार द्वारा अंतरिम बजट पेश करने के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। दोनों ने ही इस बजट को जुमला करार दिया।
    अशोक गहलोत ने लिखा कि ये बजट बीजेपी का चुनावी दस्तावेज है जिसमें लोगों की मांगों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय जुमले बाजी की गई है।

    अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया Budget 2019 India

    अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया Budget 2019 India
    अशोक गहलोत की प्रतिक्रिया Budget 2019 India

  • गलहोत ने ट्विटर पर लिखा कि ये बजट बीजेपी का चुनावी दस्तावेज है जिसमें लोगों की मांगों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय जुमले बाजी की गई है। यह बजट केवल शब्दों की एक जुगलबंदी साबित हुआ है।
  • जब सरकार का कार्यकाल समाप्त होने वाला हो, तो वित्त मंत्री 10 साल का विज़न दे रहे हैं!

  • सचिन पायलट ने कहा कि जुमले और भाषण से ज्यादा ये बजट कुछ नहीं है।
  • बजट के दौरान सब तालियां बजा रहे थे, लेकिन नोटबंदी और कालेधन का क्या हुआ। इस बजट में भाषण के अलावा और कुछ नहीं है।

  • गलहोत ने ट्विटर पर लिखा कि ये बजट बीजेपी का चुनावी दस्तावेज है जिसमें लोगों की मांगों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय जुमले बाजी की गई है। यह बजट केवल शब्दों की एक जुगलबंदी साबित हुआ है।
  • जब सरकार का कार्यकाल समाप्त होने वाला हो, तो वित्त मंत्री 10 साल का विज़न दे रहे हैं!

    सचिन पायलट की प्रतिक्रिया Budget 2019 India


  • सचिन पायलट ने कहा कि जुमले और भाषण से ज्यादा ये बजट कुछ नहीं है। बजट के दौरान सब तालियां बजा रहे थे, लेकिन नोटबंदी और कालेधन का क्या हुआ। इस बजट में भाषण के अलावा और कुछ नहीं है।
  • गलहोत ने ट्विटर पर लिखा कि ये बजट बीजेपी का चुनावी दस्तावेज है जिसमें लोगों की मांगों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय जुमले बाजी की गई है। यह बजट केवल शब्दों की एक जुगलबंदी साबित हुआ है।
  • जब सरकार का कार्यकाल समाप्त होने वाला हो, तो वित्त मंत्री 10 साल का विज़न दे रहे हैं!
  • सचिन पायलट ने कहा कि जुमले और भाषण से ज्यादा ये बजट कुछ नहीं है। बजट के दौरान सब तालियां बजा रहे थे, लेकिन नोटबंदी और कालेधन का क्या हुआ।
  • इस बजट में भाषण के अलावा और कुछ नहीं है।
  • गलहोत ने ट्विटर पर लिखा कि ये बजट बीजेपी का चुनावी दस्तावेज है जिसमें लोगों की मांगों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय जुमले बाजी की गई है। यह बजट केवल शब्दों की एक जुगलबंदी साबित हुआ है।
  • जब सरकार का कार्यकाल समाप्त होने वाला हो, तो वित्त मंत्री 10 साल का विज़न दे रहे हैं!

  • सचिन पायलट ने कहा कि जुमले और भाषण से ज्यादा ये बजट कुछ नहीं है। बजट के दौरान सब तालियां बजा रहे थे, लेकिन नोटबंदी और कालेधन का क्या हुआ। इस बजट में भाषण के अलावा और कुछ नहीं है।
Previous Post
Next Post

post written by:

0 comments: